Microsoft Windows 7 History In Hindi

Microsoft Windows 7 History शब्द से आप समझ ही गए होंगे की आज में किस विषय के ऊपर बात कर रहा हु। Windows 7 History एक दिलचस्प topic है। जिसके बारे में अधिकतर लोग जानना चाहते है की Windows 7 कैसे बना, इसकी क्यों आवश्यकता पड़ी और इसमें कौन से new features है जो इसको ओरो से अलग बनता है। जितना लोकप्रिय यह operating system है उतना ही दिलचस्प windows 7 इतहास है। दरअसल Computer जगत से जुड़ा हुवा शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति होगा जिसने windows 7 के बारे में ना सुना हो और शायद मेरा यह blog पड़ते वक्त आप windows 7 operating system का ही इस्तेमाल कर रहे होंगे।

microsoft Windows 7-min

अपने शुरुआती दौर में development के समय घटित घटनाओं से सबक लेते हुये Microsoft ने Windows 7 को काफी research और Development के बाद market में release किया। Windows 7 के development के दौरान Microsoft Development team ने इस project को एक “Blackcomb and Vienna“code-named  दिया। ताकि इसकी गोपनियक्ता को बरक़रार रखा जाए। 22 July 2009 से इस Microsoft Windows 7 operating system की manufacturing का काम start कर दिया गया और जल्द ही 22 October 2009 को Microsoft द्वारा Windows 7 को officially release कर दिया गया। Microsoft Windows 7 के release होने के Six month के भीतर ही Microsoft Windows 7 की 100 million copies online retailer Amazon.com द्वारा पर पूरी दुनिया में बेचीं गयी। जो की अपने आप में Amazon.com website के लिए एक world record  है। July 2012 के पास आते आते Microsoft अब तक  630 million licenses बेच चुका था और सन 2017 के पास आते आते Microsoft windows 7 के desktop operating system का market share 47.21 % हो चुका था। जो की ओपन आप में एक सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है। Windows 7 की अपार सफलता का राज इसमें Add किये गए New feature, Best performance, User friendly operating system और इसका attractively design है जिनके बारे में मैंने details में नीचे बताया है।

Development History


Microsoft Windows 7 History की कहानी शुरू होती है। सन 2003 से जब Microsoft Windows XP की अपार सफलता के बाद Microsoft ने अपने नए operating system Windows Vista पर काम करना शुरू किया। जिसको Microsoft development team ने “Longhorn” code-named दिया। दरअसल Windows Vista के development के दौरान Vista से जुड़ी कुछ files को Windows 7 में भी implement किया गया। लेकिन इसी दौरान सन 2003 august महीने में तीन “Blaster, Nachi, और Sobig“ नाम के viruses ने Windows operating system को कुछ ही समय में बहुत बुरी तरह से प्रभावित किया। जिसकी वजह से Microsoft ने अपने development का काम कुछ समय के लिए रोक दिया। इस viruses की वजह से Microsoft को काफी नुकसान झेलना पड़ा लेकिन जल्दी ही Microsoft ने इसकी भरपाई कर ली। बाद में इस घटना से सबक लेते हुए Microsoft ने windows 7 में implement की गयी Windows Vista की files को भी हटा दिया ताकि Microsoft Windows 7 इस viruses से प्रभावित ना हो। इसके बाद August 2004 को दोबारा से इसके development का काम शुरू कर दिया गया। July 2007 में windows Vista को Launch किये हुवे अभी 6 महीने ही बीते थे की User  द्वारा vista में बहुत सारी complaints आने लगी जैसे performance issue, software supporting issue, hardware compatibility issue, gaming software supporting issue और आदि। Windows Vista से होने वाली problem को देखते हुये Microsoft ने अपने New product Windows 7 में बहुत सारे changes किये और इसके बाद Microsoft ने अपना सारा ध्यान Windows 7 की performance improvements, compatibility with hardware or software पर लगाया। जिसका परिणाम यह हुआ कि हमें windows vista  का refined version windows 7 प्राप्त हुआ। इसी तरह  Microsoft Windows 7 के development का काम करती रही। अभी हालात सम्ब्ले ही थे की 27 December 2008 को Windows 7 का beta version bit-torrent द्वारा internet पर leaked हो गया। जिसका परिणाम यह हुवा की अपने release से पहले ही यह users तक पहुंच गया। इसके बाद जानी मानी business technology news website ZDnet ने windows 7 का performance test किया और test के नतीजों को online रखा। इस test में Windows 7 ने Windows XP और Windows Vista को पिछाड़ दिया। जैसे की Best Performance, fast booting and fast shutdown time और आदि। Windows 7 में ऐसे कई areas भी थे जहा windows 7 की performance Windows XP से काम थी। ZDnet के online Review को देकते हुए Microsoft ने Windows 7 में कुछ और changes किये ताकि इसकी performance को और बढ़ाया जा सके। अभी Microsoft इन सब factor पर काम कर ही रहा था की Microsoft Windows 7 64 bit beta version “7 January 2009” को दुबारा से Internet पर leaked हो गया। और online leaked होने के कुछ समय बाद ही यह Trojan virus से infected हो गया।  जिसका परिणाम download करने वाले users को भुगतना पड़ा। इस घटना के बाद Microsoft के CEO Steve Ballmer  ने officially announced किया की 9 January 2009 windows 7 को MSDN के द्वारा download किया जा सकता है जो की एक beta version होगा जिसकी वैधता 1 August 2009 तक होगीै। इतनी सारी घटनाये गठित होने के बात finally Microsoft ने अपने new product Windows 7 को 22 October 2009 को release कर दिया। अभी भी कुछ दककते थी Windows 7 के साथ जिसको Microsoft ने धीरे धीरे Windows update के द्वारा resolved कर दिया। Windows XP के बाद Windows 7 ही Market में सबसे जयादा popular होने वाला operating system है। जिसकी demand अभी तक बढ़ती ही जा रही है।

Microsoft Windows 7 Features


Windows 7 में बहुत सारे new features को add  किया गया। इसमें Windows Vista के भी काफी features को modify करके Add किया गया है। यह features कुछ इस तरह से है जैसे New designed taskbar, DirectAccess, improved boot performance,Heterogeneous Multi-adapter,new version of Windows Media Center, Desktop gadgets,Windows PowerShell, Recovery Troubleshooting, Workspace Center, Credential Manager, Windows Action Center,Sideshows in windows media center and windows photo viewer, support to virtual hard disks,handwriting recognition, improved performance on multi-core processors,TFTP Client, Internet Explorer 8, Windows Media player 12 और support to 32 bit and 64 bit software.

Microsoft Windows 7 Editions


Windows 7 six different editions में available है। जो कि market user के requirement के according बनाया गया है जो निम्नलिखित है।

  1. Windows 7 Starter
  2. Windows 7 Home Basic
  3. Windows 7 Home Premium
  4. Windows 7 Professional
  5. Windows 7 Enterprise
  6. Windows 7 Ultimate

Hardware Requirement


किसी भी Operating system को चलने के लिए Hardware की requirement होती है।  जिस तरह बिना petrol के गाड़ी नहीं चल सकती उसी तरह बिना Hardware के operating system नहीं चल सकता। हर एक  Operating system की minimum hardware requirement होती है जिसके बिना वह चल नहीं सकता। उसी तरह Windows 7 की भी minimum hardware requirement निम्नलिखित है ।

Microsoft Womdows 7 architecture

Hardware Extensibility


हर एक overeating system की Minimum and maximum hardware requirement होती है। उसी तरहे windows 7 की भी minimum and minimum hardware requirement कुछ इस तरहे से है।

Windows 7 1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

+ 56 = 57

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: